Shop by Category
Sangh Parivar ki Rajneeti: Ek Hindu Aalochana

Sangh Parivar ki Rajneeti: Ek Hindu Aalochana

by   Shankar Sharan (Author)  
by   Shankar Sharan (Author)   (show less)
5.0 Ratings & 3 Reviews
Sold By:   Garuda Prakashan
₹449.00₹324.00

Short Description

Buy Now

More Information

ISBN 13 9798885750387
Book Language Hindi
Binding Paperback
Publishing Year 2022
Total Pages 268
Release Year 2022
Publishers Garuda Prakashan  
Category Politics  
Weight 300.00 g
Dimension 22.00 x 14.00 x 2.00

Customer Rating

5.0 Star

5.0 Ratings & 3 Reviews
5 Star
100 %
4 Star
0 %
3 Star
0 %
2 Star
0 %
1 Star
0 %

Reviews

A Must Read !

A Must read for all Hindus to know RSS and its claim of being a pro- Hindu organisation
Review by - SUNNY SINGH, August 22, 2022

प्रसंशा से अधिक ध्यान स्वस्थ आलोचना पर देना भी जरूरी है

क्यों न हिन्दू समाज अपने अन्दर से समस्या का समाधान करें?
Review by - कल्याण सिंह, November 25, 2022

संघ/भाजपा पर आंख खोलने वाली आलोचना. इस secular पार्टी की सच्चाई

शंकर शरण जी ने बहुत विस्तार से उजागर किया है - गांधी की दिशाहीन राजनीति को आगे बढ़ाना - हिंदूओं को धीरे धीरे कमजोर करना - हिंदू हितों पर चोट करना। मौका देख कर फायदे उठा लेना। - करीब पांच दशक की पड़ताल हिंदुओं को अपने हितों के लिए अलग पार्टी तलाशनी होगी.
Review by - सुरेश कुमार शुक्ल, April 28, 2023
View All Reviews

Frequently Bought Together

This Item: Sangh Parivar ki Rajneeti: Ek Hindu Aalochana

₹324.00


Sold by: Garuda Prakashan

₹467.00


Sold By: Garuda Prakashan

₹349.00


Sold By: Garuda Prakashan

Choose items to buy together

ADD TO CART

Book 1
Book 2
Book 2

This Item: Sangh Parivar ki Rajneeti: Ek Hindu Aalochana

Sold By: Garuda Prakashan

₹324.00

Unbreaking India: Decisions on Article 370 and the CAA

Sold By: Garuda Prakashan

₹349.00

Total Price : ₹324.00

Product Details

उस पर बनी-बनाई, अच्छी-बुरी मान्यताओं से हट कर यह उन बुनियादी मुद्दों पर आधारित है, जिन से हिन्दू समाज का हित प्रभावित होता है । इस में स्वतंत्र विद्वानों, लेखकों, तथा संघ के पुराने स्वयंसेवकों के विचार शामिल हैं । साथ ही, गत दो दशक में समय-समय पर लेखक के अपने अवलोकन भी संकलित हैं । इस तरह, यह पुस्तक गत आठ दशकों में संघ परिवार की राजनीति की एक परख है । इस पड़ताल की कसौटी कोई मतवाद नहीं, वरन हिन्दू समाज का हित है।

whatsapp