[email protected]   +91-7565-800-228

Hindu Dharma Mein Vaigyanik Manyatayen

 by    K.V. Singh   
₹300.00 ₹290.00

वैदिक धर्म का जो वर्तमान स्वरूप हमें आजकल देखने को मिलता है; उसे आज का तर्कशील व वैज्ञानिक दृष्टिकोण रखनेवाला मानव अंधविश्वास; आस्था व रूढ़िवाद की संज्ञा देता है। यह विचारणीय है कि क्या वास्तव में हमारे धर्म की पूजा-पाठ विधि; पर्व-त्योहार; सांस्कृतिक मान्यताएँ व रीति-रिवाज केवल आस्था पर टिके हैं या फिर उनका कोई वैज्ञानिक आधार है?

Categories: Hinduism   

Share:

प्रायः देखा गया है कि पढ़े-लिखे लोग; जो अपने को बुद्धिजीवी मानते हैं; वे धर्म की परंपरा; परिपाटी व उसके वर्तमान स्वरूप की या तो उपेक्षा करते हैं या फिर उसके प्रति व्यंग्यात्मक रवैया अपनाते हैं। उनमें से कुछ का तो यह भी मानना है कि हमारी धार्मिक मान्यताओं का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। परंतु उनकी यह सोच वास्तविकता से बहुत परे है; क्योंकि जिन लोगों ने हिंदू धर्म के मूल रूप को जाना व अध्ययन किया है; वे जानते हैं कि हमारे धर्म का एक सुदृढ़ वैज्ञानिक आधार है। आवश्यकता केवल उसके मर्म और मूल स्वरूप को समझने की है।

Author :  K.V. Singh   
Publisher :  Granth Akademi   
Language : Hindi
Binding : Hardcover
ISBN-13 : 9789386870803
Total Pages : 244
Product Weight : 250
Format : Hardcover

You May Also Like