[email protected]   +91-7565-800-228

Vijay Manohar Tiwari

विजय मनोहर तिवारी ने पच्चीस साल प्रिंट और टीवी में खपाए हैं। खबरों की खंती में खुदाई का काम, जिससे टिकाऊ ज्यादा कुछ नहीं निकलता। लेकिन किताबों के हिंदी पाठकों की दरिद्रता के कारण चूल्हा जलाने के लिए मीडिया की मनरेगा का जाॅब कार्ड जरूरी था।
खबरों के सिरे पकड़कर भटकने के शौक में छह-सात किताबें निकलीं। इनकी बदौलत मिले पुरस्कार-सम्मान बक्सों में रखे हैं। सबसे बड़ा सम्मान उस कहानी को मानते हैं, जिसमें कथाकार कमलेश्वर ने उन्हें एक किरदार बनाकर पेश किया था।
यह बिजली के लिए बड़े बांध में डूबे एक कस्बे की दास्तान है, जिस पर टीवी के लाइव कवरेज पर केंद्रित किताब ‘हरसूद 30 जून’ साल 2005 में छपी थी। गैस हादसे में भोपाल में 15 हजार लाशें गिरी थीं, लेकिन लिखा न के बराबर गया। हादसे की पच्चीसवीं बरसी पर खबरों से ही निकली किताब है-‘आधी रात का सच।’ इसके अलावा ‘प्रिय पाकिस्तान’, ‘एक साध्वी की सत्ता कथा’ और ‘राहुल बारपुते’ दीगर किताबें हैं। ठहराव को खतरनाक मानते हैं इसलिए लगातार डोलते रहे हैं। भारत की सघन आठ परिक्रमाओं के दौरान ट्रेनों में लिखी किताब है-‘भारत की खोज में मेरे पाँच साल।’ दो-एक संस्करणों के बाद ये किताबें बाजार से लुप्त हैं। नश्वर संसार के सारे पते अस्थाई हैं। संपर्क के लिए ईमेल और आभाषी दुनिया है, लेकिन फेसबुक और ट्विटर पर तफरीह उतनी ही है, जितना सरकारी दफ्तरों में साहबों की मौजूदगी या शपथ के बाद सदन में माननीयों की पावन उपस्थिति। दो-तीन और किताबों ने उलझाया हुआ है। इनमें मीडिया के अनुभवों का जखीरा ज्वलनशील होगा। समय का हर टुकड़ा कीमती है। कौन जाने दुष्ट कोरोना कब घात लगा दे। काफिरों को अल्लाह बचाए...

5% Off
Uff Ye Maulana: India Fights Corona

Uff Ye Maulana: India Fights Corona

₹399.00 ₹379.00

कोरोना काल का एक विचारोत्तेजक दस्तावेज दुनिया भर में कोरोना एक महामारी की शक्ल में ही आया, लेकिन कोरोना के आगमन के साथ ही भारत में तबलीग की धुन अलग से सुनी गई। कोरोना एक वायरस था, जिससे निपटने के लिए अस्पतालों और डॉक्टरों को ही जुटना था। वे संसार भर में जूझ भी रहे थे, लेकिन भारत में डॉक्टरों से ज्यादा पुलिस, अदालत और जेलों में हलचल मची। ऐसे दृश्य दुनिया के किसी भी देश में दिखाई नहीं दिए, जब गली-मोहल्लों में गए मेडिकल जाँच दलों को बेइज्जत किया गया और उन पर जानलेवा हमले हुए। कुछ लोग कोरोना क...

20% Off
Janjagriti Books Package [EKP, UF, SSabh, DD, Netaji Hin]

Janjagriti Books Package [EKP, UF, SSabh, DD, Netaji Hin]

₹1,695.00 ₹1,356.00

हिंदी-प्रेमियों के लिए उपहार। जानें काफ़िरों को। कौन हैं वे; कहाँ से आये हैं? क्या-क्या दिन देखने पड़े हैं उन्हें? दंगे हों या महामारी, सारी चिंता बस इन्हीं के सर रहती है।  क्यों? पढ़ें और जानें. और हाँ! ‘बिना खड्ग-बिना ढाल के आज़ादी” तो बहुत गा लिए; अब जानें कैसे और क्यों मिली आज़ादी।  20% छूट के साथ, अभी 1,356रु. में 1. Ek Kafir Mera Padosi - Rajat Mitra 2. Uff Ye Maulana - Vijay Manohar Tiwari 3. Sarasvati Sabhyata - Maj. Gen. G D Bakshi 4. Dilli Dange...

15% Off
Pack Of 2 Hindi Books [DD20, Uff]

Pack Of 2 Hindi Books [DD20, Uff]

₹698.00 ₹593.00

Pack of 2 Hindi Books कोरोना न आता तो क्या दंगे और लम्बे चलते? कोरोना है तो महामारी, किन्तु कोई उसे भी हथियार बनाना चाहे, तो क्या कहिये? पढ़िए दोनों पुस्तकों को – और जानिये कहाँ-कहाँ से किसके तार जुड़े हैं; और ऐसे तत्व देश में क्या करना चाहते हैं. 15% छूट के साथ मात्र 698रु  593रु में 1. Dilli Dange 2020 - Monika Arora, Sonali Chitalkar, Prerna Malhotra 2. Uff Ye Maulana - Vijay Manohar Tiwari